जेईई मैन-हंडरेड पर्सेंट मार्क्स हासिल कर इतिहास रचने वाले कल्पित वीरवाल से बातचीत

कल्पित वीरवाल, एआईआर-1 (मार्क्स 360/360)

पिता- श्री पुष्कर वीरवाल, कम्पाउंडर, गवर्नमेंट हॉस्पिटल
माँ- श्रीमती पुष्पा, शिक्षक, उदयपुर

कल्पित ने न्यूज चक्र को यह बताया अपनी सफलता के बारेे में

जेईई मैन-2017 में रैंक के लिए पहले सोचा तक नही था। फिजिक्स, केमिस्ट्री व मैथ्स में हर चेप्टर के कॉन्सेप्ट क्लियर करते हुए रेगुलर पढ़ाई की। रेजोनेंस के उदयपुर सेंटर पर मैने क्लास-8 से कोचिंग ली। हर डाउट को रोज क्लास में ही क्लियर कर लेता। घर पर रोज 4 से 6 घन्टे पढ़ते हुए रेगुलर होमवर्क पूरा किया। आगे बढ़ने के लिए सेल्फ स्टडी बहुत जरूरी है। जेईई-मेन में ऑल इंडिया टॉपर होने से आत्मविवास बढ़ा है। अब जेईई-एडवांस्ड की तैयारी पर फोकस रहेगा।

दबाव या तनाव से बचने के लिए मैने कभी दूसरे स्टूडेंट से खुद की तुलना नहीं की। खुद की मिस्टेक दूर करने पर फोकस करता था। रेजोनेंस में कोचिंग लेने से नेशनल लेवल का कॉम्पिटिशन मिला, टीचर्स ने बहुत सपोर्ट किया। बड़ा भाई हार्दिक एम्स से एमबीबीएस कर रहा है। रिलेक्स होने के लिए बैडमिंटन खेला या म्यूजिक सुन लेता था। मेरा मानना है कि अच्छी रैंक के लिए निरन्तर व रेगुलर पढ़ते रहना जरूरी है। किसी एक टेस्ट के मार्क्स आपको पीछे नहीं हटा सकते। एमडीएस पब्लिक स्कूल से इस वर्ष क्लास-12 का एग्जाम दिया है। फिजिक्स मेरा मोस्ट फेवरेट सब्जेक्ट है।
पहले भी अचीवमेंट – एनटीएसई प्रथम लेवल में स्टेट टॉपर के साथ स्कॉलरशिप ली। इंटरनेशनल फिजिक्स, केमिस्ट्री व एस्ट्रोनमी ओलिम्पियाड में फाइनल कैम्प तक पहुंचा। किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना में भी अॉल इंडिया रैंक-1 मिली।

Source: newschakra

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s